आखिर कब होगी कांधला थाने के पुलिसकर्मियों और थानाध्यक्ष पर कार्रवाई?

आखिर कब होगी कांधला थाने के पुलिसकर्मियों और थानाध्यक्ष पर कार्रवाई?

मामला यूपी के शामली जिले का है जहां कांधला क्षेत्र में लड़कियां-महिलाएं खुद को सुरक्षित नहीं मानती हैं। उन सभी का कहना है कि वो मनचलों के आतंक से परेशान हैं। पीड़ित बेटियों के लिये पड़ोस का मनचला परेशानी का सबब बन गया है। जब इस बात की शिकायत करने वो थाने पहुंची थी तो वहां से भी उन्हें भगा दिया गया।

मनचलों से परेशान हुई बेटियां, पुलिस नहीं करती सुनवाई

कांधला पुलिस मनचलों पर कार्रवाई करने में नाकाम नजर आ रही है। जबकि प्रदेश के मुख्यमंत्री ने बहन बेटियों की सुरक्षा के लिए एंटी रोमियो और पुलिस को सख्त हिदायत दी हुई है लेकिन कांधला थाना पुलिस पर इस मामले में कोई भी कानूनी कार्रवाई नहीं हो रही है। अब देखना है कि जो बहन बेटियों की सुरक्षा के लिए लापरवाही बरत रहे हैं क्या पुलिसकर्मी पर कोई उनके उच्च अधिकारी कार्रवाई कर पाएंगे।

दरअसल मामला कांधला थाना क्षेत्र के गाँव जासला का है, जसाला निवासी महिला से रेप हुआ है। रेप का आरोप रिस्ते के भतीजे पर लगा है। बताया जा रहा है महिला घर पर अकेली थी। उसी बीच आरोपी युवक आया और महिला से जबरन रेप किया  और वारदात को अंजाम देकर मौके से फरार हो गया। आरोपी का नाम हरिओम है जो रिश्ते में भतीजा लगता है।

जब शाम के समय महिला का पति घर वापस पहुंचा तो महिला ने सारी आप बीती अपने पति को बताई। शिकायत लेकर पीड़ित पति व महिला कांधला थाना पहुंचे और एसओ संजीव विश्नोई से मिले शिकायत करने पर थानाध्यक्ष संजीव विश्नोई तेश में आ गए और दोनो को महिला कांस्टेबल को बुलाकर थाने से बाहर का रास्ता दिखाया और शिकायत करने पर दोनो को हवालात में बंद करने की धमकी भी दी। ये कैसा कानून है , कैसी पुलिस व्यवस्था है , अगर पीड़ितों को इस तरह से पुलिस ही डरा धमका कर थाने से भगा देगी और उनकी शिकायत पर कोई कारवाही नही करेगी तो वो इंसाफ के लिए किसका दरवाजा खट खटाएँगे। यह कोई पहला मामला नही है इसी तरह के कारनामो से एसओ कांधला आये दिन चर्चाओं में रहते है,तहरीर बदलवाना व शिकायत पर कार्यवाही ना करना कांधला पुलिस का चल हो गया है ।

ये भी पढ़ें: यमुना एक्सप्रेसवे हादसा: DGP कर रहे निगरानी, दिए राहत कार्य तेज करने के निर्देश

गांव में रहने वाली महिलाओं और लड़कियों का कहना है कि पुलिसवाले उनकी सुनवाई नहीं करते हैं। यहीं वजह है कि अब मनचलों से परेशान होकर उन्होंने घर से निकलना छोड़ दिया है। आए दिन छेड़खानी जैसी घटनाएं होती रहती हैं।

वह इस पूरे मामले में अपर पुलिस अधीक्षक राजेश कुमार श्रीवास्तव का कहना है कि ऐसा है कि कांधला थाने में एक एप्लीकेशन प्राप्त हुई है जिसमें भतीजे के ऊपर रेप करने का आरोप लगाया है। इसमें कांधला प्रभारी निरीक्षक को निर्देशित कर दिया गया है कि इसमें जांच की जाए और तथ्यों के आधार पर कार्रवाई की जाए।रेप पीड़िता को थाने से भगाने और उसके पति को जेल के अंदर डालने के मामले में अपर पुलिस अधीक्षक ने कहा कि इस मामले में क्षेत्राधिकारी कैराना को पूरे मामले की जांच सौंप दी गई है और जांच कर रिपोर्ट देने की बात कही गई है जो भी जांच के बाद सामने आएगा उसी के आधार पर कार्रवाई की जाएगी।

INPUT : SHRAVAN PANDIT

(यूपी पुलिस की हर छोटी-बड़ी खबरों को पढ़ने के लिए आप हमें फेसबुक ट्विटर पर और व्हाट्सअप भी फॉलो करें)

Related News

Videos