logo

ad
पुलिस वालों को खुली चुनौती दे रहे हैं ये अपराधी, देखें लिस्ट

फरार अपराधियों की सूची

पुलिस वालों को खुली चुनौती दे रहे हैं ये अपराधी, देखें लिस्ट

जहाँ एक ओर यूपी पुलिस प्रदेश को अपराध और अपराधी मुक्त करने की दिशा में लगातार तत्पर हैं, आये दिन अपराधियों के साथ मुठभेड़ में लोहा ले रही है, वहीं अभी भी कई वांछित अपराधी पुलिस की गिरफ्त से बाहर हैं। इसमें अगर केवल वाराणसी के आंकडें पर ध्यान दें तो तकरीबन 15 बड़े अपराधी पुलिस को चख्मा देकर जेल से बाहर घूम रहे हैं।

इस साल हुए 42 इनामी बदमाश गिरफ्तार:

उत्तर प्रदेश के वाराणसी जिले में फरार इनामी बदमाशों की गिरफ्तारी करने में लगी पुलिस को सफलता नहीं मिल पा रही है. ये अपराधी लम्बे समय से फरार चल रहे हैं और पुलिस के लिए लगातार चुनौती बने हुए हैं.

ऐसा नहीं है कि जनपद की पुलिस ने अपराध कम करने की दिशा में काम नहीं किया. इस साल ही पुलिस ने अब तक लगभग 42 इनामी बदमाशों को गिरफ्तार कर जेल भेजा है. इतना ही नहीं मात्र नवम्बर माह के आंकड़ों पर ध्यान दें तो लगभग 9 बदमाशों की गिरफ्तारी हुई है. जिनमें से चार अपराधी 50 हजार इनामी, तीन अपराधी 25 हजार इनामी, एक 15 हजार और एक अन्य 12 हजार इनामी बदमाश है.

इसे पुलिस की अपराध के प्रति गंभीरता ही कहेंगे कि अपराधियों के खिलाफ चलाये जा रहे विशेष अभियान के तहत छेड़खानी के 76 आरोपी, लूट में फरार 10 अपराधी और 4 हिस्ट्रीशीटरों की गिरफ्तारी की गयी.

गौरतलब है कि पिछले महीने में पांच आरोपियों के खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत कार्रवाई की गई। लेकिन गिरफ्त में आए इन बदमाशों में से कोई भी ऐसा अपराधी नहीं है जिसे सालों से पुलिस गिरफ्तार करने की कोशिश कर रही हो।

ये भी पढ़ें: गौतम बुद्ध नगर: सराहनीय कार्य, शातिर अपराधी हुआ गिरफ्तार 

सालों से फरार अपराधी बने पुलिस के लिए चुनौती:

लेकिन वाराणसी पुलिस के हाथ उन अपराधियों तक अब तक पहुंचे ही नहीं जो सच में उनके लिए चुनौती बने हुए हैं, इनमें सिकंदर और सहाबुद्दीन का नाम प्रमुख है.

ऐसे लगभग 14 अपराधी है जो सालों से पुलिस के शिकंजे से दूर हैं और पुलिस अब तक उनतक पहुँचने में नाकाम साबित हुई है.

दो लाख ईनामी अताउर रहमान उर्फ बाबू उर्फ सिकंदर:

इनमें साल 1997 से फरार चल रहा वांछित अपराधी अताउर रहमान उर्फ बाबू उर्फ सिकंदर है. सिकन्दर पर दो लाख का इनाम भी है. सिकन्दर महरुपुर मुहम्मदाबाद गाजीपुर का रहने वाला है।

दो लाख ईनामी शहाबुद्दीन:

शहाबुद्दीन पर भेलूपुर थाना में हत्या का मुकदमा दर्ज है। उस पर भी दो लाख का इनाम घोषित है। वह महरुपुर मुहम्मदाबाद गाजीपुर का रहने वाला है। शहाबुद्दीन भी 1997 से फरार है।

ये भी पढ़ें: कुशीनगर पुलिस का सराहनीय कार्य, दो आरोपी गिरफ्तार

50 हजार इनामी मनीष कुमार सिंह: 

2009 से फरार चल रहे अपराधी मनीष कुमार सिंह पर कैंट थाना में आपराधिक मुकदमा दर्ज है। वह 50 हजार का इनामी है। दीनदासपुर जंसा का मूल निवासी है।

50 हजार इनामी इंद्रदेव सिंह उर्फ बीकेडी:

वहीं 50 हजार इनामी बदमाश इंद्रदेव सिंह उर्फ बीकेडी भी वांछित है. इंद्रदेव भी साल 2013 से फरार चल रहा है।

विश्वास शर्मा उर्फ नेपाली:

50 हजार के इनामी विश्वास शर्मा उर्फ नेपाली पर चौबेपुर में मुकदमा दर्ज है। नेपाली कपिलेश्वर गली कोतवाली का निवासी है और साल 2005 से फरार है।

2006 से फरार सरफराज:

वहीं  मो. शमीम उर्फ सरफराज पर भी  20 हजार का इना घोषित है और ये साल 2006 से वांछित है।

इनके अलावा साल 1997 से फरार रमेश चौबे  पर ढाई हजार, साल 1998 से वांछित राजकुमार उर्फ कमलेश पर ढाई हजार, 2003 से वांछित कन्हैया यादव पर पांच हजार सहित चार हजार इनामी राजेश मिश्रा उर्फ राजू, शिव अवतार, हारुन, 2007 से फरार सतीश गुप्ता और 2008 से वांछित जावेद खान पर ढाई हजार का इनाम घोषित है।

(यूपी पुलिस की हर छोटी-बड़ी खबरों को पढ़ने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो करें)

Related News

Videos