मेडिकल पास करवाने के लिए दारोगा ने वसूला पैसा, व्हाट्सएप पर शेयर की रिपोर्ट 

मेडिकल पास करवाने के लिए दारोगा ने वसूला पैसा, व्हाट्सएप पर शेयर की रिपोर्ट 

यूपी पुलिस विभाग में सिपाही भर्ती 2017 के लिए हो रहे मेडिकल को लेकर धांधली के आरोपों में एटा और अमेठी के बाद अब उन्नाव का नाम भी शामिल हो गया है। आरोप है कि दो मई को हुए उन्नाव के 28 अभ्यर्थियों के मेडिकल के दौरान सुविधा शुल्क लेकर मेडिकल फिट करवाने का झांसा दिया जा रहा था, वहीं उनकी अभ्यर्थियों की रिपोर्ट व्हाट्सएप ग्रुप में भी डालने के आरोप लगे हैं।

सिपाही भर्ती 2017 के मेडिकल में धांधली:

यूपी पुलिस सिपाही भर्ती 2017 के अभ्यर्थियों का मेडिकल लखनऊ के सीएमओ कार्यालय में दो मई को हुआ था, जिसे लेकर अब उन्नाव के अभ्यर्थियों ने सवाल खड़े किये हैं। अभ्यर्थियों ने एक पुलिसकर्मी और कार्यालय के कर्मचारी पर धांधली का आरोप लगाया है। इसके साथ ही दोबारा मेडिकल जांच कराने की मांग भी उठाई है।

पैसे लेकर मेडिकल पास करवाने का दारोगा ने किया दावा:

सिपाही भर्ती अभ्यार्थियों का आरोप है कि मेडिकल जांच के दौरान सीएमओ कार्यालय में एक वर्दी धारी दारोगा ने सुविधा शुल्क लेकर मेडिकल में फिट कराने का दावा किया था। इसके लिए दारोगा ने अभ्यर्थियों का वाट्सएप ग्रुप बनाया। अगले ही दिन मेडिकल परीक्षण की गोपनीय रिपोर्ट ग्रुप पर डाल दी गई। ऐसे में अनफिट किए गए अभ्यर्थियों ने स्वास्थ्य परीक्षण में गड़बड़ी का आरोप लगाया है।

ये भी पढ़ें: मेडिकल एंट्रेंस एग्जाम अच्छा नहीं होने से युवती ने गोमती में लगाई छलांग

गोपनीय रिपोर्ट लीक करने को लेकर अभ्यर्थियों ने की शिकायत:

वहीं दारोगा द्वारा गोपनीय मेडिकल रिपोर्ट लीक किए जाने के मामले की पुलिस भर्ती बोर्ड के साथ ही एसपी और उन्नाव के सीएमओ से शिकायत भी की है। बता दें कि दो मई को हुए मेडिकल में कुल 28 अभ्यर्थी शामिल हुए थे। जिनका आरोप है कि फिटनेस जांच के नाम पर सीएमओ कार्यालय में खानापूर्ति की गयी।

(यूपी पुलिस की हर छोटी-बड़ी खबरों को पढ़ने के लिए आप हमें फेसबुक ट्विटर पर और व्हाट्सअप भी फॉलो करें)    

Related News

Videos