logo

ad
कुंभ मेला में NDRF की टीम ने किया मॉक ड्रिल

कुंभ मेला में NDRF की टीम ने किया मॉक ड्रिल

उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में कुम्भ मेला में आपदा प्रबंधन की तैयारियों के आंकलन के लिए उत्तर प्रदेश राज्य आपदा प्रबंध प्राधिकरण के उपाध्यक्ष रविंद्र प्रताप शाही की अध्यक्षता में टेबल टॉप और मॉक ड्रिल का आयोजन किया जा रहा है।

यह मॉक ड्रिल विभिन्न विभागों जैसे एसडीआरएफ, पुलिस, अग्निशमन, केंद्रीय पुलिस बल, स्वास्थ्य विभाग, जल पुलिस व अन्य तैनात विभाग के साथ अलग अलग आपदाओं जैसे नदी में डूबने की घटना, नाव का पलटना, रासायनिक व रेडिओलॉजिकल आपदा, बम विस्फोट, भगदड़ आदि जैसी आपदाओं से निपटने की पूर्व तैयारियों का जायजा लेने के लिये की गयी।

यह भी पढ़ें- SSP आनंद कुलकर्णी के मिशन ‘ऑल आउट’ का दिखने लगा असर

सफलतापूर्वक पूरा किया गया मॉक ड्रिल

एनडीआरएफ नदी में डूबने की घटनाओं, रासायनिक- रेडिओलॉजिकल आपदाओं, भगदड़ और अन्य मेडिकल इमरजेंसी में विशेष रेस्पॉन्स के लिये दक्ष है। जिसने इस मौक ड्रिल में मुख्य भूमिका निभाते हुये एसडीआरएफ के साथ इस मॉक को सफलतापूर्वक पूरा किया।

इस कार्यक्रम के अंतर्गत दिनांक दस जनवरी को रविंद्र प्रताप शाही की अध्यक्षता में टेबल टॉप एक्सरसाइज की गई। जिसमे उन्होंने मॉक एक्सरसाइज में शामिल होने वाले सभी विभागों के सदस्यों के साथ मिलकर कुम्भ मेले के दौरान आपदा प्रबंधन की रूपरेखा पर चर्चा की और इसी रूपरेखा के आधार पर दिनांक आज यानी शुक्रवार को जॉइंट मॉक ड्रिल का आयोजन किया गया।

यह भी पढ़ें- पत्रकार हत्याकांड में राम रहीम दोषी, 17 को सुनाई जाएगी सजा

आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने किया नोडल एजेंसी का काम

इस एक्सरसाइज में उत्तर प्रदेश राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने नोडल एजेंसी का कार्य किया। एक्सरसाइज में विभिन्न विभागों ने शामिल होकर आपदा प्रबंधन न्यूनीकरण में अपनी सर्वोच्चता को प्रदर्शित किया।

दुनिया का सबसे बड़ा सामूहिक पर्व है कुंभ मेला

बता दें, कुंभ मेला प्रयागराज दुनिया का सबसे बड़ा सामूहिक पर्व है। आस्था के इस जनसैलाब  को ध्यान में रखते हुए, कुम्भ के दौरान होने वाली संभावित आपदाओं से निपटने के लिए आपदा प्रबंधन की तैयारियों के आंकलन हेतु  मॉक ड्रिल का आयोजन किया गयाI इस  ड्रिल में  एनडीआरएफ , एस .डी .आर .ऍफ़ , सिविल डिफेन्स, फायर ब्रिगेड, पुलिस, जल पुलिस, चिकित्सा विभाग और अन्य विभागों ने हिस्सा लिया और तैयारियों की कमजोर कड़ियों की पहचान को सुनिश्चित किया।

आपदा प्रबंधन के सिखाए गुर  

आपदा प्रबंधन के इसी क्रम में एनडीआरएफ और एसडीआरएफ ने मिलकर कुम्भ मेले में आए आस्था के सेवकों को आपदा प्रबंधन के गुर सिखाए ताकि आपदा के समय जन सामान्य की भूमिका को सुनिश्चित किया जा सके। इस एक्सरसाइज के अंत में उत्तर प्रदेश राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के उपाध्यक्ष रविंद्र प्रताप शाही ने सभी विभागों की डी–ब्रीफिंग की जिसमे Multi casualty response drill  के दौरान हुई कमी पेशियों को सुधारने की सलाह दी व उनके द्वारा त्वरित कार्रवाई की सराहना की। डी–ब्रीफिंग में सभी टीमों के कमांडर्स प्रतिभागी रहे।

दुर्घटना से बचाव करने के लिए तैनात रहेगी एनडीआरएफ

कुम्भ मेला प्रयागराज में एनडीआरएफ के बचावकर्मी रेल दुर्घटना, ध्वस्त इमारत, बोट पलटना और पानी में किसी भी प्रकार की होने वाली दुर्घटना से बचाव करने के लिए तैनात रहेंगे।  एनडीआरएफ रासायनिक और जैविक आपदाओं में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी और अपने बचाव दल द्वारा त्वरित कार्रवाई करने के लिए तैयार रहेगी। एनडीआरएफ की टीमों को किसी भी आपातकालीन घटना से निपटने के लिए सभी सुरक्षात्मक उपकरणों से लैस NDRF की 12 टीमों को नदी के तट के करीब inflatable नावों, तैराकों और विशिष्ट गोताखोरों के साथ तैनात किया गया है।

यह भी पढ़ें- जब UP 100 की मदद से महिला को मिला ये नन्हा तोहफा..

मेला क्षेत्र में और साथ ही प्रयागराज शहर में किसी भी घटना के प्रति त्वरित प्रतिक्रिया के लिए सीएसएसआर और सीबीआरएन टीमों को खोज और बचाव दल के साथ चिन्हित स्थानों पर तैनात किया गया है। चिकित्सा सहायता प्रदान करने के लिए एनडीआरएफ के डॉक्टर्स, पैरामेडिक्स, नर्सिंग असिस्टेंट और एम्बुलेंस परिवहन प्रणाली की सुविधा के साथ विभिन्न सेक्टरों में फील्ड चिकित्सा पोस्ट स्थापित की गई है।

https://youtu.be/ijfc1f-bQbg

 (यूपी पुलिस की हर छोटी-बड़ी खबरों को पढ़ने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो करें)

Related News

Videos