logo

आतंकी हमले में शहीद हुए शामली के लाल को दी गई अंतिम विदाई

आतंकी हमले में शहीद हुए शामली के लाल को दी गई अंतिम विदाई

जम्मू कश्मीर के अनंतनाग में हुए आतंकी हमले में शहीद सत्येंद्र कुमार का शव शामली जनपद के गांव किवाना पहुंचा जहां पर राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया गया। परिवार में घटना के बाद से कोहराम मचा हुआ है। तो वहीं परिवार अपने शहीद बेटे सत्येंद्र के बदले की मांग कर रहा है। शहीद सत्येंद्र कुमार के अंतिम संस्कार में गन्ना मंत्री सुरेश राणा, क्षेत्रीय विधायक व अन्य सामाजिक संगठन के साथ जिले के अधिकारी मौके पर मौजूद रहे।

जम्मू कश्मीर के अनंतनाग में शहीद हुए 5 जवानों में शहीद सत्येंद्र कुमार भी शामिल थे। शहीद सत्येंद्र कुमार कश्यप कांधला थाना क्षेत्र के गांव किवाना के रहने वाले थे और परिवार की जिम्मेदारी भी उन्हीं के कंधों पर थी। शहीद सत्येंद्र कुमार पांच भाई-बहनों में सबसे बड़े थे। शहीद सत्येंद्र कुमार तीन भाई और दो बहन थे। शहीद के परिवार में दो मासूम बच्चे उनकी पत्नी और माता पिता हैं जो गांव में खेती-बाड़ी करते हुए दूध का व्यापार करते हैं। अकेले सत्येंद्र ही परिवार नौकरी पर थे।

ये भी पढ़ें: एसएसपी ने 14 पुलिसकर्मियों को भेजा पुलिस लाइन

सत्येंद्र के शहीद होने की खबर जैसे ही गांव में पहुंची तो पूरे गांव में मातम छा गया। जैसे ही शहीद सत्येंद्र का पार्थिव शरीर घर पहुंचा तो उनको देखने के लिए जनसैलाब उमड़ पड़ा। इसके साथ ही यूपी सरकार में गन्ना मंत्री सुरेश राणा, शामली विधायक तेजिंदर निर्वाल और जिले के आलाधिकारी भी अंतिम संस्कार में पहुंचे। सभी ने शहीद को श्रद्धांजलि दी। शहीद सत्येंद्र कुमार का अंतिम संस्कार किवाना में किया गया। योगी सरकार ने शहीद के परिवार को 25 लाख की आर्थिक मदद और परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने के साथ ही गांव की सड़क को उनके नाम पर बनवाने का वादा किया है।

इनपुट- श्रवण पंडित, शामली

(यूपी पुलिस की हर छोटी-बड़ी खबरों को पढ़ने के लिए आप हमें फेसबुक ट्विटर पर और व्हाट्सअप भी फॉलो करें)    

Related News

Videos