सीएम ने DGP समेत सभी IPS अधिकारियों के जमा कराए फोन

सीएम ने DGP समेत सभी IPS अधिकारियों के जमा कराए फोन

लोकसभा चुनाव के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और पुलिस विभाग के कप्तानों के बीच पहली बैठक बुधवार को राजधानी लखनऊ के लोकभवन ने आयोगित हुई है। इस बैठक की सबसे खास बात रही कि सीएम योगी के निर्देश पर बैठक में शामिल हुए सभी पुलिसकर्मियों और प्रशासनिक अधिकारियों के फोन जब्त कर लिए गये। बता दें कि इससे पहले सीएम ने कैबिनेट बैठक में मंत्रियों के फोन पर प्रतिबन्ध लगाया था। 

कानून व्यवस्था की समीक्षा बैठक में आईपीएस अफसरों के फोन जमा:

जरा इन मोबाइल फ़ोनों को ध्यान से देखिये… ये कोई चोरी और खोये हुए फोन नहीं, जिन्हें पुलिसकर्मी ढूढ़ कर उनके हकदारों को लौटाने वाले हो.. बल्कि ये उत्तर प्रदेश के सबसे ताकतवर अधिकारियों के फ़ोन हैं, जिन्हें लोकभवन के बाहर जमा करा लिया गया।

दरअसल, उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में बुधवार को मुख्यमंत्री योगी की अध्यक्षता में कानून व्यवस्था की समीक्षा बैठक का आयोजन हुआ। लोकसभा चुनाव के बाद कप्तानों और शासन के बीच यह पहली बैठक है।

ये भी पढ़ें: बच्‍चों के साथ बर्बरता, क्‍या कहता है कानून?

लोकभवन में हुई बैठक:

इस मौके पर पुलिस विभाग के अफसरों के मोबाइल पर प्रतिबन्ध लगा दिया गया। बैठक में शामिल सभी पुलिसकर्मियों के साथ ही अन्य प्रशासनिक अफसरों के फोन लोकभवन के बाहर ही जमा करवा लिए गये।

बता दें कि इसके पीछे का कारण बैठक के दौरान गंभीरता से एकाग्र होकर शामिल होना है। दरअसल होता ये हैं कि अफसर बैठक को गंभीरता से नहीं लेते और इस दौरान अपने मोबाइल फोन में ज्यादा व्यस्त नजर आते हैं। आलम यह होता है कि उन्हें जरुरी निर्देश दिए जा रहे होते हैं और वह अपने मोबाइल में व्हाट्सएप चला रहे होते हैं।

गौरतलब है कि चुनाव के बाद पहली कैबिनेट बैठक में भी मंत्रियों और अधिकारियों के फोन पर प्रतिबन्ध लगा दिया गया था। जिसके बाद अब पुलिस अफसरों के फोन पर भी सीएम ने मीटिंग के दौरान रोक लगा दी है।

(यूपी पुलिस की हर छोटी-बड़ी खबरों को पढ़ने के लिए आप हमें फेसबुक ट्विटर पर और व्हाट्सअप भी फॉलो करें)    

Related News

Videos