कृष्ण जयंती : राज्यपाल, सीएम का प्रतीक चिन्ह भेंट कर किया गया स्वागत

कृष्ण जयंती : राज्यपाल, सीएम का प्रतीक चिन्ह भेंट कर किया गया स्वागत

हिन्दू मान्यताओं के अनुसार मनाया जाने वाला त्यौहार कृष्ण जन्माष्टमी 23 अगस्त, शुक्रवार को पूरे देश में बड़े ही धूमधाम से मनाया जा रहा है। भगवान कृष्ण का जन्म आधी रात के समय हुआ था इसलिए इस दिन लोग जागकर उस समय की प्रतीक्षा करते हैं और आधी रात को पूजा अर्चना कर प्रसाद का वितरण करते हैं। काई लोग श्रद्धानुसार व्रत भी रखते हैं।

जेलों व थानों में उत्साह से मनाया जाता है यह त्यौहार

इस दिन की सबसे ख़ास बात यह होती है कि यह त्यौहार मंदिरों व घरों के साथ-साथ जेलों और थानों में भी खूब उत्साह के साथ मनाया जाता है। बता दें कि जेलों में कोई त्योहार शायद ही इतनी धूमधाम से मनाया जाता हो जितना जन्माष्टमी का त्योहार। जेल के कैदी और अधिकारी सभी रात्रि जागरण कर कृष्ण जन्माष्टमी मनाते हैं।

यह भी पढ़ें : कृष्ण जन्माष्टमी: दीप प्रज्वलित कर राज्यपाल ने कार्यक्रम का किया शुभारंभ

ये लोग पुलिस लाइन पहुंचे

इसी क्रम में सूबे की राजधानी लखनऊ में पुलिस लाइन में कृष्ण जन्माष्टमी के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में राज्यपाल आनंदी बेन पटेल, विशिष्ट अतिथि के रूप में सूबे के मुखिया सीएम योगी आदित्यनाथ समेत पुलिस मुखिया डीजीपी ओपी सिंह, डिप्टी सीएम डॉ०दिनेश शर्मा ,भाजपा प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह, कैबिनेट मंत्री डॉ०महेंद्र सिंह , राज्यमंत्री स्वाति सिंह, राज्यमंत्री मोहसिन रज़ा व मेयर संयुक्ता भाटिया समेत पुलिस  आलाधिकारी उपस्थित रहे।

प्रतीक चिन्ह किया गया भेंट

इस दौरान मुख्य अतिथि आनंदी बेन पटेल एवं विशिष्ट अतिथि सीएम योगी आदित्यनाथ को प्रतीक चिन्ह भेंट कर स्वागत किया गया। इसके साथ ही उपस्थित सभी मंत्रियों को प्रतीक चिन्ह भेंट कर स्वागत किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य अतिथि आनंदी बेन पटेल ने प्रज्ज्वलित कर किया।

जेलों में मनाने की यह है मान्यता

जेलों में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी धूमधाम से मनाने के पीछे एक खास वजह है। ऐसी मान्यता है कि भविष्यवाणी के उपरांत कंस ने अपनी बहन देवकी और बहनोई वासुदेव को कारागार यानी जेल में डाल दिया। इसके बाद देवकी और वासुदेव के जितने भी बच्चे हुए, कंस ने उन सभी को मार कर दिया किन्तु जब भगवान श्री कृष्ण का जन्म हुआ तो चमत्कार हुआ।

यह भी पढ़ें : कलयुगी शिक्षक: अवैध तमंचे के साथ फोटो वायरल, पत्नी को दी जान से मारने की धमकी

…सभी सो गए गहरी नींद में

जेल के सभी ताले टूट गए, दरवाजे भी अपने आप खुल गए। इतना ही नहीं जितने भी संतरी या सिपाही पहरे पर लगे थे, वे सभी गहरी नींद में सो गए जिसकी वजह से बालक कृष्ण का जन्म होते ही उनके पिता वासुदेव उन्हें लेकर आसानी से वृंदावन पहुंच गए और नंद बाबा-यशोदा को उन्हें सौंप दिया लेकिन इस बात की कंस को भनक भी नहीं लगी।

{श्रीकृष्ण की इस माया की वजह से ही पुलिस थानों में हर साल श्री कृष्ण जन्माष्टमी का त्योहार धूमधाम से मनाया जाता है।}

(यूपी पुलिस की हर छोटी-बड़ी खबरों को पढ़ने के लिए आप हमें फेसबुक ट्विटर पर और व्हाट्सअप भी फॉलो करें)

Related News

Videos