गाजियाबाद: इंस्पेक्टर समेत कई पुलिसकर्मियों ने किया फर्जी एनकाउंटर, दर्ज होगा केस

गाजियाबाद: इंस्पेक्टर समेत कई पुलिसकर्मियों ने किया फर्जी एनकाउंटर, दर्ज होगा केस

दिल्ली से सटे गाजियाबाद में हो रहे एन्काउंटर पर कोर्ट ने भी सवाल उठा दिए है। 27 जून को हुए एक एन्काउंटर को लेकर अदालत ने तीखी टिप्पणी करते हुए अपनी निगरानी में मुकदमा चलाने का आदेश दिया है। अदालत ने एक इंस्पेक्टर समेत आधा दर्जन पुलिसकर्मियो के खिलाफ मुकदमा चलाने का आदेश दिया है। जिस इंस्पेक्टर के खिलाफ ये मामला हुआ है उसपर पहले से हत्या के मामले की जाँच भी चल रही है।

फर्जी एनकाउंटर करती है गाजियाबाद

क्या अपने नंबर बढ़ाने के लिए क्या अपने आपको सिंघम कहलवाने के लिए क्या खुद को एन्काउंटर मैन साबित करने के लिए खाकी पहने लोग बेकसूरों का एन्काउंटर कर रहे है। लगता तो ऐसा ही है। गाजियाबाद के मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट ने अपनी तीखी टिपण्णी देते हुए ये कहा है।

यह भी पढ़ें: सावन के पहले सोमवार पर बनारस पुलिस की ‘अग्निपरीक्षा’

मजिस्ट्रेट ने अपने आदेश में कहा है की इस एन्काउंटर की विवेचना पुलिस से न करा कर खुद न्यायालय मामले को परिवाद के रूप में दर्ज कर स्वम जाँच करेगा। यानि एक तरह से कोर्ट भी मान रहा है की उसको पुलिस की जाँच पर भरोसा नहीं है। मामला दरअसल 27 जून को गाजियाबाद के थाना विजयनगर में हुए एक एन्काउंटर के मामले को लेकर है। इस एन्काउंटर में एक तथाकतित बदमाश आमिर को पुलिस ने अपनी गोली से घायल होना बताया था। लेकिन आमिर की बहन और उसके वकील ने कुछ ऐसे साबुत कोर्ट के आगे रखे की कोर्ट ने इस एन्काउंटर की खुद जाँच करना ही मुनासिब समझा।

आमिर की बहन यास्मीन ने कोर्ट को बताया था की उसके भाई की तारीख थी और वो जब कोर्ट से बहार निकला तभी पुलिसकर्मियो ने उसका अपरहण किया और फिर एन्काउंटर दिखा दिया। कोर्ट ने थाना प्रभारी विजयनगर श्यामवीर सिंह दो सब इंस्पेक्टर समेत कई पुलिसकर्मियो पर परिवाद दर्ज कर जाँच के आदेश दिए है। आपको बता दे की थाना प्रभारी विजयनगर श्यामवीर सिंह जिनके खिलफ कोर्ट ने ये आदेश दिया है उनके खिलोफ एक और मामले में हत्या की जाँच भी चल रही है।

(यूपी पुलिस की हर छोटी-बड़ी खबरों को पढ़ने के लिए आप हमें फेसबुक ट्विटर पर और व्हाट्सअप भी फॉलो करें)

Related News

Videos