जानें क्या होता है FICN थाना, किन अपराधों का करेगा निस्तारण

जानें क्या होता है FICN थाना, किन अपराधों का करेगा निस्तारण

यूपी पुलिस नकली नोटों से जुड़े मामलों में केस दर्ज करने से कन्नी काटती है, वहीं जाली नोट लेने या पहचानने से इनकार भी कर देती है। ऐसे में विभाग ने नकली करेंसी से जुड़े मामलों के लिए अलग से थानों का गठन करने का फैसला किया है। यहीं थानों को नाम मिला है, ‘एफआईसीएन थाना’ ।

क्या है FICN थाना:

एफआइसीएन यानी फेक इंडियन करेंसी नोट.. यूपी पुलिस विभाग हर जिले में फेक करेंसी से संबधित मामलों की जांच के लिए एक नोडल थाना बनाएगा। इन थानों को एफआइसीएन (फेक इंडियन करेंसी नोट) के नाम से जाना जाएगा।

ये भी पढ़ें: बहराइच पुलिस की थर्ड डिग्री: एसपी ने किया SOG प्रभारी को लाइन हाजिर

कैसे करेंगा काम

एफआईसीएन नोडल थाने में तैनात पुलिसकर्मियों को जाली नोट पहचाने के लिए प्रशिक्षित किया जाएगा। इनमे अभी एक एक निरीक्षक और दारोगाओं को आरबीआई ट्रेनिंग देगी। बैंकों में आने वाली फेक करेंसी की एफआइआर भी इन्ही नोडल थानों में दर्ज होगी।

यह थाने बनेंगे एफआइसीएन नोडल

जिन जिलों के नोडल थाने बनाये जायेंगे, उसमें सिद्धार्थनगर में सदर थाना को एफआइसीएन नोडल के रूप में चयनित किया गया है।

वहीं गोरखपुर कैंट, कुशीनगर कोतवाली पड़रौना, देवरिया नगर कोतवाली, महराजगंज सोनौली, बस्ती नगर कोतवाली, सिद्धार्थनगर सदर थाना और संतकबीर नगर के खलीलाबाद थाने को नोडल बनाया जाएगा।

 (यूपी पुलिस की हर छोटी-बड़ी खबरों को पढ़ने के लिए आप हमें फेसबुक ट्विटर पर और व्हाट्सअप भी फॉलो करें) 

Related News

Videos