अब छात्राएं सिखाएंगी मनचलों को सबक, दारोगा सुनिता मलिक ने बताए तरीके

अब छात्राएं सिखाएंगी मनचलों को सबक, दारोगा सुनिता मलिक ने बताए तरीके

बालिकाओ और महिलाओ को सशक्त और जागरूक बनाये जाने के लिए प्रदेश सरकार ने बालिका सुरक्षा जागरूकता पर जुलाई अभियान की शुरुआत की है।

आये दिन कहीं न कही महिलाओं के साथ बदसलूकी के मामले सामने आते रहते हैं, जिससे महिलाओं के सम्मान को ठेस पहुंचती है। ऐसे में इन दिनों बालिक सुरक्षा अभियान के तहत हापुड़ में सब इंस्पेक्टर सुनीता मलिक जो कि इस समय पिलखुआ थाने में तैनात है उन्होंने स्कूल जाकर छात्राओं को सुरक्षा के संबंध में महत्वपूर्ण जानकारी दी गई। साथ ही स्कूल के आसपास घूम रहे मनचलों से पूछताछ भी की।

छात्राओं को बताया गया कि-

किसी भी व्यक्ति पर अंधा विश्वास ना करें, किसी भी व्यक्ति के द्वारा कहीं भी बुलाए जाने पर माता-पिता से बता कर ही वहां जाएं ।

आत्म सुरक्षा के लिए अपने स्कूल में एनसीसी/स्काउट गाइड का प्रशिक्षण जरूर लें इससे आपके अंदर आत्मविश्वास आएगा आप अपने आप को सुरक्षित महसूस करेंगी ।

ये भी पढ़ें : रिश्तों को टूटने नहीं देता गाजियाबाद का महिला थाना

इंटरनेट का इस्तेमाल करते समय अपनी पर्सनल जानकारी जैसे फोटो, घर की फोटो, मोबाइल नंबर, पासवर्ड आदि कदापि शेयर ना करें ।

किसी भी घटना पर तुरंत सहायता के लिए अपने फोन से 100 नंबर डायल करके पुलिस को बुला सकते हैं यह सेवा सातों दिन 24 घंटे कार्य करता है । यूपी पुलिस की यह सेवा त्वरित कार्यवाही के लिए ही है ।

ये भी पढ़ें : अच्छी खबर- गाजियाबाद महिला थाना पुलिस ने बिछड़े पति-पत्नियों को मिलाया

यदि कोई व्यक्ति आपको फोन करके परेशान कर रहा हो या फोन से गलत बात बोल रहा हो फेसबुक, व्हाट्सएप, इंस्टाग्राम, ईमेल पर आपत्तिजनक फोटो या मैसेज कर रहा हो जब आप स्कूल/कालेज या कहीं जा रही हों तो कोई आपका पीछा कर रहा हों, छेड़खानी कर रहा हों या फब्तियां कस रहा हो तो बेझिझक आप विमेन पावर लाइन 1090 को कॉल करके अपनी समस्याएं बता सकती है ।आपके बारे में 1090 किसी को कुछ नहीं बताता और आपकी पहचान पूरी तरह से गोपनीय रखी जाती है ।सबसे बड़ी बात यह है कि जब आप फोन करती हैं तो हमेशा महिला अधिकारी द्वारा ही आपका फोन उठाया जाता है और बड़ी विनम्रता से आपकी शिकायत दर्ज की जाती है ।

ये भी पढ़ें : महिला थाना पुलिस मिला रही बिछड़े दंपतियों को

हजारों परिवारों को टूटने से बचाया 

सुनीता मलिक जब गाजियाबाद के महिला थाने पर प्रभारी थीं तो इन्होंने हजारों परिवारों को टूटने से बचाया और उन्हें रिश्तों की अहमियत बताई। सुनीता मलिक ने जिन परिवारों को टूटने से बचाया उन सभी ने इनकी जमकर सराहना की। इसके साथ ही गाजियाबाद में तैनाती के दौरान सुनीता मलिक महिलाओं की मदद के लिए हमेशा तैयार रहती थीं।

(यूपी पुलिस की हर छोटी-बड़ी खबरों को पढ़ने के लिए आप हमें फेसबुक ट्विटर पर और व्हाट्सअप भी फॉलो करें)

Related News

Videos