छह साल से अपराधियों पर कहर बनकर टूट रहे दारोगा सुधीर

डॉ. सुधीर राघव, दारोगा

छह साल से अपराधियों पर कहर बनकर टूट रहे दारोगा सुधीर

हाथरस पुलिस की पहचान बने दारोगा डॉ. सुधीर राघव ने हर मुसीबत में अपनी पुलिस को बाहर निकाला है। छह साल में वह अपराधियों पर खूब कहर बनकर टूटे। कई बड़े ऐसे मामलों का खुलासा किया जो अफसरों के गले की फांस बने रहे। इसलिए आज भी सुधीर का नाम सुनते ही अपराधियों के पसीने छूट जाते है।

डॉ सुधीर राघव मूल रुप से बुलन्दशहर जिले के गांव चांदोक के रहने वाले है। उनके पिताजी राकेश कुमार पुलिस विभाग में थे। उनका सपना था कि सुधीर एक दिन पुलिस महकमे में दारोगा बनें और उनके परिवार का नाम रोशन करे। उनका सपना साकार हो गया। मगर पिता अपने बेटे सुधीर के जलवे को नहीं देख सके। वर्ष 2003 में उनका देहान्त हो गया। उनकी जगह उनके बड़े पुत्र योगेन्द्र कुमार सिंह ने नौकरी हासिल कर ली,लेकिन कंधे पर सितारे आने के बाद सुधीर ने पीछे मुड़कर नहीं देखा।

वह लगातार अपराधियों के लिए आफत बने रहे। कई अनसुलझे मामलों का उन्होंने खुलासा करके यूपी भर में वाह वाह लूटी। डॉ सुधीर वर्तमान में एक बार फिर  दोबारा से एसओजी प्रभारी है। इससे पहले वह कई महत्वपूर्ण चौकियों के प्रभारी रह चुके है। डॉ सुधीर राघव ने कुख्यात 35 हजार के इनामी भीमा को मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार किया। भीमा को मथुरा पुलिस भी नहीं तलाश पा रही थी।

सुधीर ने अपनी टीम के साथ उसे घेर लिया। लाइव मुठभेड़ हुई। शहर के खातीखाना में मधुपाठक के इकलौते बेटे की हत्या कर दी गयी। उसका खुलासा किया। सादाबाद के मोनू पालीवाल के हत्याकांड का खुलासा। सासनी कोतवाली में दो हत्याकांड के खुलासे किये। हतीसा पुल पर फाइनेंसकर्मी के साथ हुई लूट के बाद उसकी हत्या कर दी गयी। इस हत्याकांड को लेकर पुलिस अधिकारियों के पसीने छूटे हुए थे,लेकिन सुधीर ने अपने नेटवर्क से 46 वें दिन घटना का पर्दाफाश कर डाला। तब कहीं जाकर अधिकारियों ने राहत की सांस ली।

यह भी पढ़ें:छात्र को घर के बाहर से अगवा कर ले गया युवक, CCTV में कैद हुई वारदात

सासनी व चंदपा में लगातार पान मसाले से भरे ट्रकों को लूटा गया,लेकिन चंद दिनों में सुधीर ने एक बार फिर से लुटेरों को सलाखों तक पहुंचा दिया। शहर के सराफ से दाऊद इब्राहीम के शूटर बनकर बीस किलो सोना मांगा गया,लेकिन वह भी तीन दिन में ही पकड़े गये। जिले में ई रिक्शा चालकों की लगातार हत्याएं हो रही थी,लेकिन इस गैंग को सुधीर ने मुरसान पुलिस की मदद से पकड़ लिया और जेल भेज दिया। उसके बाद से एक भी ई रिक्शा की हत्या नहीं हुई है। आज भी पूरा गैंग जेल में है।

अब तक सुधीर ने अपने ही दम पर सौ से अधिक चोरी की बाइकों को बरामद किया है। इसके अलावा शहर में पूर्व विधायक देवेन्द्र अग्रवाल के पेट्रोल पंप पर लूट हुई और सेल्समैन की गोली मारकर हत्या कर दी और लूटपाट करके ले गये। इस वारदात के बाद आईजी आगरा खुद आये,परन्तु सुधीर ने इस हत्याकांड का भी खुलासा सुधीर ने कर दिया। सिकंदराराऊ में भी पेट्रोल पंप पर लूटपाट के बाद सेल्समैन की हत्या हुई थी। उसका भी सुधीर ने अनावरण किया। शराब कारोबारी तजवंत कालरा की बंदूक से दुकान से चोरी का खुलासा किया।

इनपुट- सुमित शर्मा, हाथरस

(यूपी पुलिस की हर छोटी-बड़ी खबरों को पढ़ने के लिए आप हमें फेसबुक ट्विटर पर और व्हाट्सअप भी फॉलो करें)

Related News

Videos