कैंसर पीड़ित बेटी को ब्लड डोनेट के लिए आधी रात अस्पताल पहुंचा दारोगा

कैंसर पीड़ित बेटी को ब्लड डोनेट के लिए आधी रात अस्पताल पहुंचा दारोगा

वाराणसी के एक दारोगा ने मानवता की वो मिसाल पेश की, जो आमतौर पर देखने को नहीं मिलती. सीएम की सुरक्षा में लगे एक दारोगा ने 12 घंटे की थकाऊ ड्यूटी के बाद भी कैंसर पीड़ित एक बच्ची की जान बचाने के लिए आधी रात ब्लड बैंक पहुंचा. सोशल मीडिया पर बच्ची के परिजनों की गुहार सुनकर मदद करने वाले इस दारोगा का नाम है मिथलेश यादव.

डॉक्टरों ने भी थपथपाई पीठ

लक्सा थाने में तैनात उप निरीक्षक मिथलेश यादव ने गुरुवार रात सोशल मीडिया पर ब्लड की दरकार जैसी पोस्ट देखकर उन्होंने गरीब परिवार की बच्ची की मदद की। वे आधी रात आईएमए पहुंचे और रक्त दान किया। दरोगा ने कहा कि, पिता ने उन्हें खून का रिश्ता बनाना सिखाया है। बीएचयू के पूर्व चिकित्सा अधीक्षक प्रोफेसर वीएन मिश्रा ने दरोगा के कार्यों की सराहना की है।

यह भी पढ़ें : STF ने करोड़ों की ठगी करने वाले गिरोह के सरगना समेत दो को दबोचा

बलिया का रहने वाला एक परिवार अपनी तीन साल की बेटी का इलाज बीएचयू में करा रहा है। बेटी कैंसर से पीड़ित है। गुरुवार को उसे ओ निगेटिव ब्लड की जरूरत थी। लेकिन ब्लड पाने के लिए डोनर की जरूरत थी। इसलिए कुछ समाजसेवियों ने इसे अपने फेसबुक पेज पर शेयर किया। जिसे दरोगा मिथलेश यादव ने भी देखा। लेकिन उनकी ड्यूटी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सुरक्षा में लगी थी।

आधी रात को पहुंचे ब्लड बैंक

रात करीब एक बजे उन्होंने एक दोस्त को बीएचयू भेजकर स्लिप मंगाई और आईआईएम लहुराबीर जाकर ब्लड डोनेट कर बच्ची की जान बचाई। मिथलेश यादव ने कहा कि, मेरे खून से किसी की जिंदगी बच जाए तो जिंदगी मेरी सफल हो जाए। पिता राम चंद्र चौधरी सेना से रिटायर हैं। वो हमेशा दूसरों की मदद की सीख बचपन से हमें देते रहे। दरोगा मिथलेश सिविल सर्विसेज की तैयारी कर रहे हैं। आईएएस 2013-14 एक्जाम में मेंस भी निकाला था। पीसीएस की तैयारी कर रहे हैं।

(यूपी पुलिस की हर छोटी-बड़ी खबरों को पढ़ने के लिए आप हमें फेसबुक ट्विटर पर और व्हाट्सअप भी फॉलो करें)

Related News

Videos