अपराधियों में पुलिस का खौफ! एनकाउंटर के डर से कर रहे सरेंडर

अपराधियों में पुलिस का खौफ! एनकाउंटर के डर से कर रहे सरेंडर

प्रदेश में सीएम ने अपराधियों से सख्ती के साथ निपटने का आदेश पुलिस अधिकारियों को दिया है। जिसे लेकर कई जिलों के एसएसपी और एसपी समेत अन्य आला अफसरों ने ऑपरेशन क्लीन चलाया है। ऑपरेशन क्लीन के तहत आपराधियों की धरपकड़ को लेकर पुलिस ताबड़तोड़ एनकाउंटर कर रही है। मुठभेड़ में कई गैंगस्टर और शातिर बदमाश पुलिस के हत्थे भी चढ़े हैं। एनकाउंटर को लेकर मेरठ जोन में एनकाउंटर की बात करें तो यहां पुलिस अर्धशतक लगा चुकी है। वहीं, मुठभेड़ के दौरान बदमाशों के पैरों में गोली मारे जाने की संख्या एक हजार के लगभग है। यही वजह है कि मेरठ जोन पुलिस की तारीफ सीएम योगी भी कर चुके हैं।

जेल ही सबसे सही जगह

एनकाउंटर का खौफ होने के कारण बदमाशों को जेल ही सबसे सही जगह समझ आ रही। ताबड़तोड़ हो रहे एनकाउंटर से अपराधियों में दहाशत कम नहीं है। यही वजह है कि बदमाश आत्मसमर्पण कर जेल में ही रहना सही समझ रहे। एनकाउंट की खौफ का कारण ही है कि सहारनपुर में गैंगस्टर खुद ही थाने पहुंच गया। यहां उसने आत्मसमर्पण करते हुए खुद को गिरफ्तार करने की गुहार लगाई।

पुलिस में वांच्छित चल रहा था गैंगस्टर अजीम

गौरतलब है कि पिछले दिनों गैंगस्टर अजीम थाना कुतुबशेर पहुंचा। यहां उसने पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण कर दिया। साथ ही यह भी कहा कि मैं आपके थाने का वांछित गैंगस्टर अजीम हूं, मुझे गिरफ्तार कर लीजिए। गैंगस्टर के यह कहते ही पुलिस ने आला अधिकारियों को जानकारी दी। इसके बाद आरोपी गैंगस्टर को गिरफ्तार कर लिया गया। अजीम पर 15 दिसंबर 2018 को गैंगस्टर का मामला दर्ज किया गया था। इसके बाद से वह पुलिस में वांच्छित चल रहा था।

यह भी पढ़ें:पुलिस की सूझबूझ से टल गया सोनभद्र नरसंहार पार्ट-2! वायरल हुआ वीडियो

थाने पहुंचकर किया आत्मसमर्पण

गौरतलब है कि भाजपा सकार बनने के बाद सीएम बनते ही योगी आदित्यनाथ ने पुलिस अफसरों को अपराधियों पर ताबड़तोड़ कार्रवाई का आदेश दिया। जिसके बाद पुलिस अफसरों ने अपराधियों को मुंहतोड़ देना शुरू किया। मेरठ, मुजफ्फरनगर, शामली, सहारनपुर, बागपत, हापुड़, बुलंदशहर, नोएडा और गाजियाबाद जैसे शहरों में पुलिस से बदमाशों की सीधी मुठभेड़ होने लगीं। पुलिस एनकाउंटर में कई बदमाश मारे गए और गिरफ्तार भी हुए। अजीम ने मीडिया के सामने यह बयान दिया कि उसे जल्द ही यह जानकारी मिली कि उसके खिलाफ गैंगस्टर एक्ट का मुकदमा दर्ज है। पुलिस गिरफ्तार करने के लिए कुछ भी कर सकती है। वह नहीं चाहता कि एनकाउंटर में मारा जाए। इसलिए खुद ही थाने पहुंचकर आत्मसमर्पण कर दिया।

यह भी पढ़ें:इस जिले में हुआ पुलिसकर्मियों के कार्यक्षेत्र में फेरबदल

गैंगस्टर चीका ने भी किया था सरेंडर

बताते चलें कि गैंगस्टर के अलावा गो हत्याओं का आरोपी बदमाश आसिफ उर्फ चीका निवासी मोहल्ला ढोलीखाल ने भी कुतुबशेर थाने पहुंचकर आत्मसमर्पण कर दिया था। चीका पर पुलिस ने तीन महीने पहले गैंगस्टर का मुकदमा दर्ज किया था। चीका के साथी सारिक उर्फ खच्चर को मुठभेड़ के दौरान पुलिस ने गोली मारकर घायल करते हुए दबोच लिया था। चीका ने भी यही कहा था कि उसके खिलाफ गैंगस्टर का मुकदमा दर्ज है। वह नहीं चाहता कि उसका एनकाउंटर कर दिया जाए। इसलिए वह खुद ही सरेंडर करने थाने पहुंचा है और पुलिस से जेल भेजने की गुहार लगाई।

(यूपी पुलिस की हर छोटी-बड़ी खबरों को पढ़ने के लिए आप हमें फेसबुक ट्विटर पर और व्हाट्सअप भी फॉलो करें)

Related News

Videos