इन बदमाशों को पकड़ने के लिए लखनऊ पुलिस ने खंगाले थे 900 CCTV फुटेज

इन बदमाशों को पकड़ने के लिए लखनऊ पुलिस ने खंगाले थे 900 CCTV फुटेज

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में शनिवार रात लूट, हत्या समेत तमाम बड़े अपराधों में शामिल आरोपियों की गिरफ्तारी को लेकर हुई मुठभेड़ पर एडीजी जोन लखनऊ राजीव कृष्णा ने जानकारी देते हुए बताया कि लखनऊ में हो रही इन आपराधिक वारदात को गंभीरता से लेते हुए आईजी के निर्देशन में आठ टीमों का गठन हुआ था।

बता दें कि एडीजी के साथ आईजी एसके भगत और एसएसपी कलानिधि नैथानी भी मौके पर मौजूद रहे। उन्होंने बताया कि पिछले छह महीनों से लखनऊ में सनसनीखेज घटनाएँ हुईं थीं। इन्हीं वारदातों के अनावरण और अपराधियों को रोकने के लिए आठ टीमों का गठन हुआ।

छह महीने से लखनऊ में मचा रखा था आतंक

इन टीमों में राजधानी के एसपी, डिप्टी एपी और क्राइम ब्रांच को रखा गया था। वहीं अपराधियों की धरपकड़ के लिए नौ सौ सीसीटीवी फुटेज का विश्लेषण किया गया। महत्वपूर्ण सीसीटीवी फुटेज को साक्ष्य के रूप में रखा गया।

गिरफ्तारी के लिए आठ टीमों का आईजी ने किया था गठन

जांच के दौरान 40 अपराधियों के बारे में जानकारी मिली थी। कुछ अपराधी इसमे सामने आए, जिनकी इन घटनाओं में शामिल होने की पुष्टि भी हुई। लगातार इन अपराधियों की जानकारी रखी जा रही थी और उनकी गिरफ्तारी का प्रयास में पुलिस लगी हुई थी।

ये भी पढ़ें: ADG देंगे ‘कलानिधि की पुलिस’ को 75 हजार का इनाम

मुठभेड़ के बाद हुई तीन बदमाशों की गिरफ्तारी:

एडीजी ने बताया कि शनिवार को देर शाम जानकारी मिली कि आरोपी किसी जगह जाने वाले हैं, हमारी टीमें उनकी गिरफ्तारी में लग गयीं। इस मोटरसाइकिल से बदमाश आते दिखें, रोकने पर पुलिस पर फायरिंग कर दिया। पुलिस की जवाबी फायरिंग में तीनों बदमाश घायल हो गये।

इन हत्या और लूट की वारदातों ने थे बदमाश शामिल:

उन्होंने बदमाशों के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि, दो मार्च को आरके ज्वेलर्स से जुडी घटना में यहीं तीन बदमाश शामिल थे। नाका में भी 40 हजार की छिनैती में उनका ही हाथ था।पूछताछ में आरोपियों ने अपना अपराध कबूल कर लिया है।

ये भी पढ़ें: फर्जी एनकाउंटर की वाहवाही लूट रही लखनऊ पुलिस, सोशल मीडिया पर हुई किरकिरी

खरगापुर मार्केट में हुई वारदात में एक लाख 63 हजार रुपये रिकवर किये गये हैं। गिरफ्तार अपराधियों के नाम हैं, अजय गुप्ता उर्फ पिंकू नेपाली, लइक उर्फ मकबूल और शिव कुमार शास्त्री। ये बदमाश बिहार की लूट में भी वांछित चल रहे हैं।

एडीजी ने लखनऊ पुलिस टीम को उनकी सफल कार्रवाई के लिए 75 हजार रुपये देने की घोषणा की है।

इनपुट: सलमान 

 (यूपी पुलिस की हर छोटी-बड़ी खबरों को पढ़ने के लिए आप हमें फेसबुक ट्विटर पर और व्हाट्सअप भी फॉलो करें) 

Related News

Videos